उत्तर प्रदेशमुरादाबादराजनीतिराष्ट्रीय

कृषि कानून रद : यूपी सरकार पर सपा, बसपा व कांग्रेस हमलावर, योगी बोले-एतिहासिक फैसला

Agriculture law canceled: SP, BSP and Congress attack on UP government, Yogi said - historical decision

19 नवंबर 21
मुरादाबाद : मोदी सरकार के विवादित तीनों कृषि कानून वापस लेने के ऐलान से उत्तर प्रदेश में सियासत तेज हो गई है। सपा मुखिया अखिलेश यादव, बसपा अध्यक्ष मायावती और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। सपा ने ककानून वापस लेने को उत्तर प्रदेश में हारने का डर बताया है तो प्रियंका ने किसानों की मौत और उन्हें आतंकवादी वगैरह कहने पर भाजपाइयों और सरकारों को घेरा है। इसी तरह मायावती ने किसानों को जीत की बधाई देकर सरकार को घेरा है।

प्रदेश में सपा की बनेगी सरकार : अखिलेश

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सोशल मीडिया पर कहा है कि अमीरों की भाजपा ने भूमि अधिग्रहण व काले कानूनों से गरीबों-किसानों को ठगना चाहा। कीलें लगाई, बाल खींचते कार्टून बनाए, जीप चढ़ाई लेकिन सपा की पूर्वांचल की विजय यात्रा के जन समर्थेन से डरकर काले कानून वापस ले लिए। भाजपा बताए सैकड़ों किसानों की मौत के दोषियों को सजा कब मिलेगी। विजय यात्रा में बढ़ती भीड़ से गदगद अखिलेश अब सत्ता परिवर्तन का दावा कर रहे हैं। उन्होंने विजय रथ से मिल रहे जनसमर्थेन को देखते हुए विजय यात्रा को चुनाव तक जारी रखने का ऐलान भी कर दिया है।

प्रियंका ने मोदी से पूछे तीखे सवाल

कांग्रेस नेत्री प्रियंका गांधी ने नरेंद्र मोदी से सवाल किया है कि 600 किसानों की शहादत, 350 दिन से अधिक का आंदोलन और मंत्री के बेटे ने किसानों को कुचल कर मारा डाला और आपको कोई परवाह नहीं थी। आपकी पार्टी के नेताओं ने किसानों का अपमान करते हुए उन्हें आतंकवादी, देशद्रोही, गुंडे व उपद्रवी कहा और आपने खुद आंदोलनजीवी बोलाा। अब चुनाव में हार दिखने लगी तो इस देश की सच्चाई सम­ाने आने लगी। यह देश किसानों ने बनाया है, यह देश किसानों का है, किसान ही इस देश का सच्चा रखवाला और कोई सरकार किसानों के हित कुचलकर इस देश को नहींं चला सकती। आपकी नियत औौर आपके बदलते हुए रुख पर विश्वास करना मुश्किल है। किससान की सदैव जय होगी, जय जवान, जय किसान, जय भारत।

एमएसपी की मांग पर अडिग बसपा

बसपा सुप्रिमों मायावती ने पत्रकारों से वार्ता में कहा कि सरकार ने कानून वापस लेने में देरी की है। उन्होंने कहा कि सरकार को चाहिये कि शीतकालीन सत्र में संसद में एसएसपी पर कानून बनाएं, क्योंकि यह मांग वर्षों से लंबित है। उन्होंने कहा है कि शहीद होने वाले किसानों के आश्रितों को मुआवजा और सरकारी नौकरी दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार कानूनों को पहले वापस ले लेती तो देश अनेक प्रकार के ­ागड़े-­ां­ाट और संकट से बच जाता। उन्होेंने गर्मी, बरसात और ठंड में आंदोलन पर डटे रहने पर किसानों की प्रशंसा भी की है।

मुख्यमंत्री योगी ने बताया एतिहासिक फैसला 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा तीनों कृषि कानून वापस लेने के फैसले को एतिहासिक बताते हुए कि फैसले का स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि बड़ा समुदाय का मानना था कि किसानोंं की आमदनी बढ़ाने के लिए इस तरह के कानून सहायक हो सकते हैं। किसान संगठन विरोध में आए तो सरकार ने हर स््तर पर सम­ााने का प्रयास किया। हम उन्हें सम­ााने में सफल नहीं पाए और आंदोलन बढ़ता गया। उन्होंने कहा कि कानून रद करने के साथ एमएसपी के लिए उच्च स्तरीय कमेटी का गठन करने भी प्रशंसनीय है। उन्होंने गुरु पर्व की बधाई भी दी हैै।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button