बिज़नेसमुरादाबादराष्ट्रीयलाइफस्टाइल

डिजाइनिंग के क्षेत्र में चमका पीतल नगरी का सितारा : नमित खन्ना को “यंग टेलेंट 2021” पुरस्कार

Brass city's star shines in the field of designing: Namit Khanna gets "Young Talent 2021" award

11 दिसंबर 21, मुरादाबाद। देश के हस्तशिल्प निर्यातकों के सामने वर्षों से आ रही डिजाइनिंग की किल्लत अब दूर होने की उम्मीद बंधी हैं। जी हां, प्रतिष्ठित निर्यात फर्म नोदी एक्सपोर्ट परिवार के नमित खन्ना ने डिजाइन में पदापर्ण किया और पहले ही कदम पर उल्लेखनीय कार्य भी किया है। नमित को दुनिया की नामचीन कंपनी एल डेकोर ELLE DECOR ने “यंग टेलेंट 2021” से सम्मानित किया है। नमित की उपलब्धि से पीतल नगरी का को गर्व है।

पिता नीरज विनोद खन्ना मां और बहन के साथ नमित खन्ना

डिजाइनिंग की कमी है पीतल नगरी में

दरअसल, पीतल नगरी में धातु हस्तशिल्प के लिए नए डिजाइन का सूखा ही रहा है। डिजाइन को कमी को कम करने के लिए धातु हस्तशिल्प सेवा केंद्र एमएचएससी व हस्तशिल्प निर्यात संवर्द्धन परिषद ईपीसीएच ने काफी प्रयास किया, लेकिन मुकम्मल सफलता अभी नहीं मिल सकी है। निर्यातकों ने फर्मों में ही डिजाइन सेंचर भी बनाए हैं, लेकिन अभी भी निर्यातक डिजाइन के लिए विदेशी खरीददारों पर आश्रित दिखाई देते हैं। यहां विदेश से आए डिजाइन को डेवलप करने का कार्य ही होता है। वर्षों से डिजाइनिंग पर कार्य हो रहा है, पर्याप्त कामयाबी नहीं मिल सकी है।

मुंबई पुरस्कार वितरण समारोह में एल डोकोर के संपादक मृदुल पाठक के साथ नमित खन्ना।
नमित खन्ना ।

मिलान से डिजाइनिंग की शिक्षा

नोदी एक्सपोर्ट के स्वामी रहे विनोद खन्ना की पहचान निर्यातक के साथ समाजसेवी और नेक दिल इंसान के रूप में होती रही है। विनोद खन्ना के पुत्र नीरज विनोद खन्ना भी इसी राह पर हैं। अब नमित खन्ना ने डिजाइनिंग के क्षेत्र में सफलता के पायदान पर चढ़ना शुरू किया है जिससे निर्यातकों में नई उम्मीद जगी है। मुंबई से बीबीए की शिक्षा हासिल करने वाले नमित बीते वर्ष मिलान गए थे। जहां उन्होंने डोमस अकादमी में डिजाइनिंग की शिक्षा ली और तीन महीने मिलान के प्रसिद्ध स्टूडियों में कार्य भी किया। लॉकडाउन लगने के कारण घर आना पड़ा था। वह धातु फर्नीचर पर डिजाइनिंग कर रहे हैं, वैसे होम डेकोर प्रोडक्ट पर डिजाइनिंग सीखी है।

दिल्ली में खोलेंगे डिजाइनिंग स्टूडियोनमित खन्ना ने न्यूज रनवे से बातचीत करते हुए कहा कि दीगर निर्यात फर्मों को भी डिजाइनिंग उपलब्ध कराएंगे। डिजाइनिंग क्षेत्र के विस्तार के लिए वह दिल्ली में स्टूडियो खोलने वाले हैं। इसके साथ वह अपनी आन लाइन कंपनी नामा होम को ब्रांड बनाकर देशभर में शुरू करने की योजना बना रहे हैं। देश के प्रमुख शबरों में नामा होम के आउटलेट्स खोलने की तैयारी है। इसके बाद नामा होम को विदेशों में फैलाया जाएगा। उन्होंने कहा कि मुरादाबाद में कई आन लाइन कंपनी हैं, लेकिन उत्पाद और डिजाइन को लेकर गंभीर नहीं दिखाई देती हैं। उनका मानना है कि निर्यात और घरेलू बाजार में डिजाइनिंग के बल पर कामयाबी हासिल की जा सकती है। बदलते दौर में ग्राहकों की नजर नए डिजाइन पर रहती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button