अयोध्या | आज़मगढ़ | आजमगढ़ | उत्तर प्रदेश | चित्रकूट | फ़र्रूख़ाबाद

फर्रुखाबाद के गंगा घाटों का इतिहास 700 वर्ष पुराना है।

फर्रूखाबाद 24webnews खुदागंज से लेकर कम्पिल प्राचीन बूढ़ी गंगा की धारा तक लगभग 32 विश्रांत घाट बने हुए थे। इन विश्रांतो का मुख्य उ़़देदश ब्रिटिश शासन काल के व्यापार के लिए इस्तेमाल किया जाता था।इस लिये इन्हें मिनी बंदरगाह के नाम से भी जाना जाता है।
इसी प्रांगण में शिव मंदिर बना हुआ है ।जिसकी देख रेख व पूजा अर्चना बाबा कपिल नाथ महाराज जी करते है।इन्हें यह मंदिर 02/02/2019 श्री पंचदश नाम जूना अखाडे के महंत सत्य गिरि की अध्यक्षता में सभी संतो ने निर्णय लिया है योगी कपिल नाथ को मोठे महादेव आश्रम गंगा घाट साह जी बिसराते नीबलपुर स्थित मंदिर का महन्त घोसित किया जाता है। आश्रम की जमीन कीमती होने के कारण वहाँ के कुछ दबंगों द्वरा बाबा कपिल नाथ को मारापीटा जाता है। 29/09/2018 को मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश सरकार लखनऊ को प्रार्थना पत्र दिया था आश्रम के पड़ोसी ग्राम के दबंग नन्हे, रामसिंह हीरालाल जितेंद्र पुत्र नामालूम आश्रम से दान के रुपये लूट लिया व मारपीट आश्रम की जगह में अतिक्रमण किये हुए है।
फर्रुखाबाद जिलादिकारी ,पुलिस अधीक्षक ,थाना पुलिस को प्रार्थना पत्र दिया लेकिन कोइ कार्यवाही नही हुई। पुनः14/06/2020 मीडिया के लोगों की बीडियो बनबाने में बाबा ने मदत की तो अबैध कब्जा किये दबंगो ने बाबा को मारपीटा ।फिर दोबारा 12/06/2021 को

24webnews की टीम के कैमरे सामने बाबा को रामसिंह व उनके लड़को ने गाली गलौच कर मारपीट कर दीं व मीडिया कैमरे को तोड़ने का प्रयास किया कपिल नाथ ने 14 जून 2021 को जनता दरबार मे मुख्यमंत्री को प्रार्थना पत्र दिया लेकिन अभी तक कोई कार्यवाही नही हुई।

फर्रुखाबाद। जिले की संस्कृति का गंगा नदी एवं इसके धार्मिक महत्त्व से अटूट रिश्ता है। यहां का इतिहास भी प्राचीन है, परंपराओं से पुराना है। फर्रूखाबाद में कम्पिल से प्राचीन धारा बूढी गंगा से लेकर खुदागंज तक लगभग 32 विश्रांत घाट बने हुए थे। इन विश्रांतो का मुख्य उ़़देदश ब्रिटिश शासन काल के व्यापार के लिए इस्तेमाल किया जाता था।

जिसमे कलकत्ता से लेकर गढमुक्तेश्वर जो अब अलग राज्य बन गया उसका एक जिला है तक व्यापारिक बडी नावें चला करती थी। जिनमे नमक,नील,सोरा, अफीम, कपड़ा, बर्तन के उद्योग का व्यापार होता उसी के साथ-साथ धार्मिक महत्व सांस्कृतिक गतिविधियों में मुगल बादशाहों सेठ, धन्ना सेठों ने विश्रांत घाटों का निर्माण कराया था।

विशेष पर्व पर गंगा मेला, माघ मेला, सामाजिक उत्सव शादी-विवाहों में इन घाटों पर अपार भीड लगा करती थी।कम्पिल का घाट मुगल बादशाह ने बनाया था।

इसी प्रकार शमसाबाद की विश्रांत फर्रूखाबाद में झुन्नीलाल, सेठ शाह जी की विश्रांत, टोका घाट, पांचाल घाट, किला घाट, रानी घाट, सुन्दरपुर घाट, सिंगीरामपुर में मराठा परिवार की विश्रांते बहुत ही सुन्दर थी। लेकिन आज खण्डर पड़ी है। न ही इन घाटो का संपर्क मार्ग बढ़िया है।गंगा दरवाजा से लेकर टोका घाट, नीवलपुर तक लगभग 200 प्राचीन मंदिर थे।जिनमे कीमती पत्थर व अष्टधातु की मूर्तियां थी जो आज दिखाई नहीं देती है।इन सभी मंदिरों का अस्तित्व नहीं रहा खण्डर बन गए और गांव के लोगों ने सुन्दर घाटों को भूसा, उपले भरकर गंदा कर दिया है।घाटों की विश्रांतो मे राजस्थानी, ईरानी, अवध शैली में लाल पत्थर से बनी हुई है। इनके गुंमदों में राजस्थान, अवध की चित्रकारी आज अपनी कहानी कह रही है

जिनमे धार्मिक चित्र रामायण, महाभारत, मुगलकाल के नवाबों के चित्र जिनमे लोक कलाओं, लोक जीवन, अतीत काल की गाथा बखान कर रही है। इनके खण्डर अवषेशों में अतीत की कलाओं को संरक्षण की आवश्यकता है। गंगा घाट पर एक मंदिर वर्तमान में पत्थर वाली मठिया या

नादिया वाला मंदिर जिसमे लाल राजस्थानी पत्थर की उकेरी गई मृण मूर्तियां आज भी आध्यामिकता झलकती है। जिसमे शेष नाग की सईया पर विष्णु भगवान पृष्ठभूमि पर नवग्रह, रामायण कालीन सीताहरण, दुर्गा- शिव विवाह, ऐसे धार्मिक चित्र आकर्षण का केन्द्र है। मंदिर के चबूतरे के नीचे भाग पर लोक कला, लोक जीवन, लोक उत्सव, अंकित सामाजिक चित्रण है। मंदिर के उत्तरी दिशा में विशाल नादियां शिवभक्तों के प्रहरी के रूप मे दरवाजे पर खडा है। इस मंदिर की पुनः रंगाई पुताई व मरम्मत का कार्य हुआ ।

फर्रुखाबाद में गंगा जी का एक घाट था.. घटियाघाट। जो नाम लेने में अच्छा नहीं लगता था। इसलिए जिला अधिकारी नरेंद्र सिंह चौहान ने शासन के आदेश पर इस का नाम बदल कर पांचाल घाट रख दिया। रामकृष्ण जो इतिहास के जानकर है उनकी माने तो लगभग 55 वर्षो से इन सभी घाटों को गंगा ने छोड दिया है। जिस कारण विश्रांतो की एक मंजिल जमी दोंज हो गई है। और इतने प्राचीन विरासत को किसी भी सरकार ने ध्यान नहीं दिया जिसकी वजह से आज यह सब खण्डर हो रही है। पांचाल घाट पर इलाहाबाद की तरह ही माघ के महीने मे पूरे माह मेला लगा रहता है। इस मेले मे आस-पास के जिलो के लोग कल्पवास करते है। देश के हर कोने से दुकानदार अपनी दुकाने भी लगाते है। यदि इन सभी विश्रांतो को संरक्षण मिला होता तो इनका यह हाल नही होता जो हो रहा है।

सरकार अब भी ध्यान दे ले तो यह जगह फर्रुखाबाद में पर्यटकों के लिये देखने लायक है।अगर पर्यटन आये गए सरकार की आय बढ़ेगी व जिले का विकास होगा लोगों को रोजगार भी मिलेगा

Pushpendra kumar

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *