मैनपुरी

मुलायम सिंह यादव की भतीजी संध्या यादव की हुई हार, परिवार से बगावत कर बीजेपी से लड़ा था चुनाव

उत्तर प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की मतगणना रविवार को सुबह शुरू होने के बाद रात तक जारी रही। कोविड प्रोटोकॉल के तहत इस बार शारीरिक दूरी का पालन तथा मतगणना केंद्र में कम कर्मियों की मौजूदगी के कारण काफी विलंब हो रहा है।


प्रदेश के 829 केंद्रों पर मतगणना हो रही है। जिला पंचायत सदस्य के 3050 पदों के लिए 44307 उम्मीदवार मैदान में हैं। इनके साथ ही क्षेत्र पंचायत सदस्य पदों पर 3,42,439 प्रत्याशी मैदान में है। प्रधान पद के लिए 4,64,717 तथा ग्राम पंचायत सदस्य पदों के लिए 4,38,277 उम्मीदवार चुनाव में हैं।
मतगणना अभी भी जारी है और आज यानी सोमवार दोपहर बाद भी सभी परिणाम आने की उम्मीद है। इससे पहले रविवार को जो नतीजे आए थे, उनमें 16510 ग्राम प्रधान, 12358 ग्राम पंचायत सदस्य तथा 35812 क्षेत्र पंचायत सदस्य भी विजयी हो गए हैं।

मैनपुरी में सपा विधायक राजकुमार यादव की पत्नी को बागी ने हराया

मैनपुरी में समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव और पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव प्रोफेसर रामगोपाल यादव के बेहद करीबी सदर विधायक राजकुमार यादव राजू की पत्नी वंदना यादव जिला पंचायत सदस्य पद के लिए चुनाव हार गई हैं। पूर्व जिला पंचायत सदस्य वंदना यादव वार्ड 28 से समाजवादी पार्टी से समर्थित प्रत्याशी थीं। उनको समाजवादी पार्टी के बागी प्रत्याशी जर्मन यादव ने पराजित किया है। सदर विधायक राजकुमार यादव राजू यादव ने इस चुनाव में काफी मेहनत की थी और वह पत्नी का नामांकन कराने के बाद से ही लगातार सक्रिय थे। इससे पहले मैनपुरी से समाजवादी पार्टी के विधायक राजकुमार यादव पर सपा की महिला मोर्चा की क्षेत्रीय मंत्री सीमा चौहान ने छेडख़ानी, गाली- गलौज और धमकी देने जैसे कई गंभीर आरोप लगाने के बाद सीमा चौहान ने विधायक राजकुमार यादव के खिलाफ थाने में शिकायत भी दी थी। राजू यादव ने मीडिया से कहा कि यह सस्ती लोकप्रियता पाने का तरीका है।

मुलायम सिंह यादव की भतीजी संध्या यादव की हुई हार, परिवार से बगावत कर बीजेपी से लड़ा था चुनाव

उत्तर प्रदेश त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में वोटों की गिनती दूसरे दिन भी जारी है। अभी तक 70 फ़ीसदी तक परिणाम घोषित हो चुके हैं। उम्मीद है कि शाम तक सभी पदों के लिए नतीजे घोषित कर दिए जायेंगे। इस बार के पंचायत चुनाव में बड़े-बड़े दिग्गजों को भी हार का सामना करना पड़ा है। इसी क्रम में मैनपुरी जिले में यादव परिवार से बगावत कर बीजेपी के टिकट से जिला पंचायत सदस्य का चुनाव लड़ रही मुलायम सिंह यादव की भतीजी संध्या यादव को करारी शिकस्त मिली है। पूर्व सांसद धर्मेंद्र यादव की बड़ी बहन संध्या यादव बीजेपी के टिकट से वार्ड संख्या 18 से मैदान में थीं। उन्होंने सपा नेता प्रमोद यादव की पत्नी ने हराया। हालांकि अभी नतीजों की आधिकारिक घोषणा नहीं की गई है।

जिला पंचायत सदस्य के चुनाव में भाजपा को बढ़त

जिला पंचायत सदस्य की 3050 सीटों पर मतगणना जारी है। इसमें भाजपा को काफी बढ़त मिली है। भाजपा के अधिकृत प्रत्याशी 172, समाजवादी पार्टी के 139, बहुजन समाज पार्टी व कांग्रेस के 40-40 और निर्दलीय प्रत्याशी 87 सीटों पर आगे चल रहे हैं

।उत्तर प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की मतगणना रविवार को सुबह शुरू होने के बाद रात तक जारी रही। कोविड प्रोटोकॉल के तहत इस बार शारीरिक दूरी का पालन तथा मतगणना केंद्र में कम कर्मियों की मौजूदगी के कारण काफी विलंब हो रहा है। प्रदेश के 829 केंद्रों पर मतगणना हो रही है। जिला पंचायत सदस्य के 3050 पदों के लिए 44307 उम्मीदवार मैदान में हैं। इनके साथ ही क्षेत्र पंचायत सदस्य पदों पर 3,42,439 प्रत्याशी मैदान में है। प्रधान पद के लिए 4,64,717 तथा ग्राम पंचायत सदस्य पदों के लिए 4,38,277 उम्मीदवार चुनाव में हैं। मतगणना अभी भी जारी है और आज यानी सोमवार दोपहर बाद भी सभी परिणाम आने की उम्मीद है। इससे पहले रविवार को जो नतीजे आए थे, उनमें 16510 ग्राम प्रधान, 12358 ग्राम पंचायत सदस्य तथा 35812 क्षेत्र पंचायत सदस्य भी विजयी हो गए हैं। मैनपुरी में सपा विधायक राजकुमार यादव की पत्नी को बागी ने हराया मैनपुरी में समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव और पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव प्रोफेसर रामगोपाल यादव के बेहद करीबी सदर विधायक राजकुमार यादव राजू की पत्नी वंदना यादव जिला पंचायत सदस्य पद के लिए चुनाव हार गई हैं। पूर्व जिला पंचायत सदस्य वंदना यादव वार्ड 28 से समाजवादी पार्टी से समर्थित प्रत्याशी थीं। उनको समाजवादी पार्टी के बागी प्रत्याशी जर्मन यादव ने पराजित किया है। सदर विधायक राजकुमार यादव राजू यादव ने इस चुनाव में काफी मेहनत की थी और वह पत्नी का नामांकन कराने के बाद से ही लगातार सक्रिय थे। इससे पहले मैनपुरी से समाजवादी पार्टी के विधायक राजकुमार यादव पर सपा की महिला मोर्चा की क्षेत्रीय मंत्री सीमा चौहान ने छेडख़ानी, गाली- गलौज और धमकी देने जैसे कई गंभीर आरोप लगाने के बाद सीमा चौहान ने विधायक राजकुमार यादव के खिलाफ थाने में शिकायत भी दी थी। राजू यादव ने मीडिया से कहा कि यह सस्ती लोकप्रियता पाने का तरीका है। मुलायम सिंह यादव की भतीजी संध्या यादव की हुई हार, परिवार से बगावत कर बीजेपी से लड़ा था चुनाव उत्तर प्रदेश त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में वोटों की गिनती दूसरे दिन भी जारी है। अभी तक 70 फ़ीसदी तक परिणाम घोषित हो चुके हैं। उम्मीद है कि शाम तक सभी पदों के लिए नतीजे घोषित कर दिए जायेंगे। इस बार के पंचायत चुनाव में बड़े-बड़े दिग्गजों को भी हार का सामना करना पड़ा है। इसी क्रम में मैनपुरी जिले में यादव परिवार से बगावत कर बीजेपी के टिकट से जिला पंचायत सदस्य का चुनाव लड़ रही मुलायम सिंह यादव की भतीजी संध्या यादव को करारी शिकस्त मिली है। पूर्व सांसद धर्मेंद्र यादव की बड़ी बहन संध्या यादव बीजेपी के टिकट से वार्ड संख्या 18 से मैदान में थीं। उन्होंने सपा नेता प्रमोद यादव की पत्नी ने हराया। हालांकि अभी नतीजों की आधिकारिक घोषणा नहीं की गई है।

जिला पंचायत सदस्य के चुनाव में भाजपा को बढ़त जिला पंचायत सदस्य की 3050 सीटों पर मतगणना जारी है। इसमें भाजपा को काफी बढ़त मिली है। भाजपा के अधिकृत प्रत्याशी 172, समाजवादी पार्टी के 139, बहुजन समाज पार्टी व कांग्रेस के 40-40 और निर्दलीय प्रत्याशी 87 सीटों पर आगे चल रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *