Breaking News
Nawabganj: थाना नवाबगंज की पुलिस ने तीन ओवरलोड वाहनों को पकड़ा, कटने के लिए जा रहे थे जानवरइंतजार खत्म नवाबगंज विकासखंड प्रधानी का आरक्षण आयाMohammdabad: विकास खंड मोहम्मदाबाद में भी आरक्षण की कैंची, पढ़े प्रधान पदों का आरक्षण- अनुसूचित जाति का आरक्षण शमशाबाद के आरक्षण में देखें अपना गांव,कईओं की तयारी ध्वस्त आरक्षण ने खेल बिगाड़ाराजेपुर की आरक्षण सूची,सभी को खुश करने की कोशिस चुनावी हलचल हुए तेजबढ़पुर ब्लॉक का प्रधान पद आरक्षण ,कईओं का बिगड़ा गणितमेरे पिता को गौरव शर्मा व् उसके साथियों ने गोलियों से छलनी कर दिया -हाथरस कांडफर्रुखाबाद में जिला पंचायत सदस्य की आरक्षण सूची जारी, देखें कौन सी शीट हुई आरक्षितजीडी पब्लिक स्कूल में नकब लगाकर चोरी, कीमती सामान को के गए चोरनवाबगंज प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर 14 साल का बच्चा बांट रहा था मरीजों को दवाई

माँ एक रिश्ता नही है बल्कि माँ एक पूर्ण सम्पूर्ण अहसास है।

माँ एक रिश्ता नही है बल्कि माँ एक पूर्ण सम्पूर्ण अहसास है। और इसी अहसास को गीत के जरिये। उत्तराखंड के रहने वाले दानिश मलिक ने माँ सॉन्ग को रिलीज कर अहसास दिलाया है। की जिंदगी में उनके सबसे करीब उनकी माँ है माँ की दुआओं का ही असर है कि रुड़की में रहने वाले दानिश मलिक मलिक साहब अपने जिंदगी का कोई भी काम अपनी माँ के दुआओं के बगैर नही करते है मलिक साहब ने यह गाना सालो पहले अपनी माँ के लिए लिखा था अब आवाम के जुबां पर सुना जा सकता है बही फर्रुखाबाद के रहने वाले मोहम्मद सैफ ने मलिक साहब के इस गाने को सुनने के बाद बहुत ज्यादा प्रसंशा की और बताया है की जब एक रोटी के चार टुकड़े होते हैं और खाने वाले पांच तो ‘मुझे भूख नहीं है’ ऐसा कहने वाली होती हैं माँ। माँ के अपने बच्चे के प्रति प्यार और त्याग की कोई गणना नहीं कर सकता। माँ उस फूल की तरह है जो पूरे परिवार को महकाती है। माँ‬ तो माँ है, ‪माँ‬ का ‪दर्जा‬ ‪सर्वोच्च‬ ‪हैं गौर से देखिये तारीख जरा माँ से प्यारा भी नाम क्या होगा जिसके कदमों के नीचे जन्नत है उसकेसर का मुकाम क्या होगा। मोहम्मद सैफ ने अल्लाह से दुआ कर मलिक साहब को उचाईयों तक जाने की दी बधाई|

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Connect with us -

Recent Posts