फर्रुखाबाद

नवाबगंज फर्रुखाबाद बुखार से जूझ रहे सैकड़ों लोग ,सीएचसी में उपचार के दौरान एक महिला की मौत परिजनों ने डाक्टरों पर लगाया अनदेखी व गलत इंजेक्शन लगाने का आरोप।

नवाबगंज थाना क्षेत्र के गांव नगला निवासी रामप्रकाश अपनी पत्नी मुन्नी देवी जो कि बुखार से जूझ रही थी जिनकी हालत गंभीर होने पर परिजन पहले उनको कस्बे के निजी चिकित्सक के यहां लेकर आए जहां गंभीर हालत होने पर निजी चिकित्सक ने सरकारी अस्पताल ले जाने तथा ऑक्सीजन लगवाने की बात कह कर सीएचसी नवाबगंज में भेज दिया जहां परिजनों ने महिला को सीएचसी नवाबगंज में भर्ती कराया परिजनों के मुताबिक महिला को ना तो ऑक्सीजन मिली और ना ही सही तरीके से इलाज किया इसलिए मृतका मुन्नी देवी की इलाज के दौरान मौत हो गई मौत की सूचना का मेमो डॉक्टरों ने थाने में भेजा तथा परिजनों के लगाए आरोप के अनुसार थाना अध्यक्ष अच्छेलाल पाल कस्बा इंचार्ज नरसिंह यादव मौके पर पहुंचे और परिजनों के मुताबिक लगाए गए आरोप के अनुसार सीएससी के चिकित्सा अधीक्षक डॉ सुमित शाक्य को पुलिस ने अपने हिरासत में लिया तथा हिरासत में लेकर डॉक्टर को थाना पुलिस थाने लेकर आई जहां परिजनों से तहरीर देकर मुकदमा लिखाई जाने की बात कही तो परिजन सबके पोस्टमार्टम ना होने की वजह से मुकदमा लिखा ना उन्होंने उचित नहीं समझा और डॉक्टर के के स्थानांतरण करने की बात कहीं खबर लिखे जाने तक मृतका के परिजनों ने नाही तहरीर लिख कर दी थी और ना ही थाना पुलिस ने सीएससी के चिकित्सा अधीक्षक डॉ सुमित को अपने हिरासत से नहीं छोड़ा था श्रीमान जी अस्पताल में मौजूद पुलिस बल तथा मृतका के परिजन फोटो साथ में।

नवाबगंज फर्रुखाबाद थाना और कस्बे में फैला बुखार ,जिसके चलते सीएससी के सभी वार्ड भरे।

नवाबगंज थाना क्षेत्र के कस्बा नवाबगंज तथा आसपास के गांवों बुखार की घातक बीमारी फैली है जिससे सीएचसी में मरीजों की संख्या दर्जनों को पार कर गई वहीं एक एक बेड पर दो दो मरीज लेटे हैं लेकिन फिर भी मरीज बालों से लेकर के बाहर फील्ड में भी लेते देखे गए इसके चलते ना तो नगर पंचायत क्षेत्र के अधिशासी अधिकारी कोई ध्यान दे रहे हैं जो कि मच्छर मारने की दवा का छिड़काव कराया जाए और ना ही स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी कोई किसी तरह का ध्यान दे रहे हैं जिसके चलते मरीजों में हर दिन एक नया इजाफा मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है लेकिन स्वास्थ्य विभाग तथा नगर पंचायत विभाग खाली कागजों में कार्रवाई कर पैसा निकालने की मारामारी पड़ी है लेकिन मरीजों को ना ही कोई सही उपचार और ना ही मच्छरों के मारने की कोई दवा का छिड़काव किया जा रहा है

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *