अपराधउत्तर प्रदेशग़ाज़ियाबाद

प्रेमी का गला काटकर हत्या, बैग में लाश को रख लगा रही थी ठिकाने पुलिस ने पकड़ा

अस्तुरा से गला रेत की हत्या

Ghaziabad : यूपी के गाजियाबाद में पति को छोड़कर प्रेमी के साथ रहने आई महिला ने सोते वक्त उस्तरे से हमला कर प्रेमी की गला काटकर हत्या कर दी. जिसके बाद सूटकेस में अपने प्रेमी की लाश को पैक कर ठिकाने लगाया.

कहते हैं जब प्यार का खुमार चढ़ता है तो प्यार करने वाले को कुछ भी सही और गलत समझ नहीं आता है. कुछ ऐसा ही गाजियाबाद के तुलसी निकेतन की रहने वाली प्रीति शर्मा के साथ हुआ. पहले से शादीशुदा प्रीति शर्मा का फिरोज नामक व्यक्ति से इश्क परवान चढ़ने लगा. दोनों का प्यार इतना बढ़ा कि प्रीति शर्मा ने अपने पति को छोड़कर अपने प्रेमी के साथ रहना गवारा समझा. तीन-चार साल तक दोनों साथ रहे. लेकिन कहते हैं कि जब दो प्रेमी साथ होते हैं तो प्यार के साथ-साथ तकरार भी बढ़ती है. कुछ ऐसा ही प्रीति और फिरोज के साथ होने लगा.

प्रीति शर्मा जिसने अपने प्रेमी फिरोज को मौत के घाट उतारा

क्या है पूरा हकीकत मामला ?

फिरोज पेशे से एक नाई की दुकान पर काम करता था. लगातार चल रहे मनमुटाव से प्रीति इस कदर परेशान हो गई कि उसने अपने प्रेमी पर सोते वक्त उस्तरे से हमला कर उसकी गला काट कर हत्या कर दी. अब हत्या करने के बाद प्रीति अपने घर में लाश के साथ तनहाई में थी. तभी उसको होश आया कि जिसकी हत्या की है उसकी लाश को भी ठिकाने लगाना होगा. जिसके बाद प्रीति ने एक बड़े से सूटकेस में अपने प्रेमी की लाश को पैक किया और उसको लेकर रात के अंधेरे में ठिकाने लगाने के लिए निकल गई.

पुलिस ने महिला को किया गिरफ्तार

इसी दौरान गाजियाबाद थाना टीला मोड़ क्षेत्र की पुलिस गश्त पर थी और उन्होंने प्रीति को देखते ही महिला पुलिस के साथ उसकी चेकिंग की. जब उन्होंने सूटकेस खोला तो वह लाश को देखकर दंग रह गए. प्रीति से पूछा गया कि यह लाश किसकी है तो उसने पुलिस के सामने तोते की तरह झूठी कहानियां सुनानी शुरू कर दी. लेकिन जब गाजियाबाद टीला मोड़ पुलिस ने सख्ती से पूछताछ की तो प्रीति ने वह सारे राज उगल दिए जो सूटकेस में फिरोज की लाश के साथ बंद थे. जिसके बाद पुलिस ने आरोपी प्रीति को गिरफ्तार कर लिया है और अब उसको जेल भेजने की कार्रवाई कर रही है

बहरहाल गाजियाबाद थाना टीला मोड़ पुलिस ने महिला को तो गिरफ्तार कर लिया है लेकिन आज भी एक बड़ा सवाल महिला और उसके पति के सामने आ खड़ा हुआ है कि अगर वक्त रहते उसने अपनी पत्नी को समझाया होता और प्रीति ने वक्त रहते अपने बहकते हुए कदमों को संभाल लिया होता तो आज यूं सलाखों के पीछे पहुंचने की वजह ना बनती.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button